जानिए क्या देवी सरस्वती वास्तव में विद्या की देवी हैं?


sant-rampal-ji

इस संसार में अनेकों धर्म प्रचलित हैं और प्रत्येक धर्म में कई धार्मिक मान्यताएं की जाती हैं और सभी मनुष्य अपनी धार्मिक क्रियाओं को सही मानकर उस पर आरूढ़ रहते हैं इसलिए यह तय कर पाना मुश्किल हो जाता है कि पूजा का सही तरीका क्या है और सभी धर्मों के लिए एकमात्र पूज्यनीय भगवान कौन है? 

प्रत्येक भक्त की पूजा का उद्देश्य जीवन में सभी प्रकार के सांसारिक लाभ, सुख समृद्धि और मोक्ष प्राप्ति है जिसके लिए वे अपने इष्ट भगवान या देवी को प्रसन्न करना चाहते हैं। ऐसी ही एक देवी हैं जिनसे लोग धन तो नहीं परंतु विद्या, ज्ञान और बुद्धि मांगते हैं। वह देवी हैं ब्रह्मा जी की पुत्री देवी सरस्वती। लेकिन क्या वास्तव में उनकी पूजा करने से विद्या, ज्ञान और बुद्धि की प्राप्ति होती है? आइए जानते हैं इस लेख के माध्यम से।

ज्ञान की देवी के रूप में देवी सरस्वती पूजनीय हैं

देवी सरस्वती को लोकोक्तियों के आधार पर ज्ञान और बुद्धि की देवी के रूप में जाना जाता है, जो संगीत, कला, बुद्धि, भाषण ,विद्या और कला से जुड़ी मानी जाती हैं। इन्हें माता सरस्वती भी कहकर पुकारते हैं। सरस्वती का वाग्देवी, शारदा, वीणावादिनी आदि नामों से भी अभिवादन किया जाता है। ज्ञान की वैदिक देवी सरस्वती को मूर्तियों और चित्रों में एक हाथ में वीणा (संगीत वाद्ययंत्र), पवित्र जल का एक बर्तन (शक्तियों की शुद्धि का प्रतीक) धारण करने वाली चित्रित किया गया है। एक हाथ में आध्यात्मिकता की शक्ति का प्रतीक माला और एक छोटे आकार की किताब उन्हें ज्ञान का प्रतीक बनाती है। हंस और मोर से घिरे कमल के फूल पर विराजमान सरस्वती देवी विद्या, बुद्धि और शिक्षा की प्रतीक मानी गई हैं।

माता सरस्वती की पूजा कब की जाती है?

हिन्दू धर्म में प्रतिवर्ष बसंत पंचमी के दिन छात्रों और विद्वानों द्वारा माता सरस्वती की पूजा की जाती है। आमतौर पर शैक्षणिक संस्थानों और सरकारी कार्यालयों में बसंत पंचमी के दिन ज्ञान प्राप्ति के उद्देश्य और देवी से आशीर्वाद प्राप्त करने के हेतु इसे त्योहार रूप में मनाया जाता है ।

देवी सरस्वती किसकी बेटी हैं ?

सरस्वती माता के जन्म के संबंध में लोककथाओं और दंतकथाओं में कई तथ्य वर्णित हैं। एक मान्यता अनुसार वह श्री ब्रह्मा के मुख से निकली थीं। यह भी कहा जाता है कि वह देवी शक्ति दुर्गा/प्रकृति/अष्टांगी के शरीर से प्रकट हुईं। हिंदू धर्म की विभिन्न धार्मिक पुस्तकों में उनके जन्म से संबंधित अनेकों तथ्य कहे गए हैं। हालांकि, वास्तविकता यह है कि देवी सरस्वती भगवान ब्रह्मा और देवी सावित्री की बेटी हैं।

ब्रह्मा जी और देवी सरस्वती की कथा

एक दिन श्री ब्रह्मा जी के दरबार में युवा देवता ज्ञान सुनने के लिए उपस्थित हुए थे। श्री ब्रह्मा और देवी सावित्री की बेटी देवी सरस्वती को उनकी सहेलियों (देव स्त्रियों) ने विवाह करने के लिए प्रेरित किया और कहा कि आज सुअवसर है आपके पिता के दरबार में सर्व देव मौजूद हैं। आज ही अपने लिए अपना मनपसंद वर चुन लो। अपने लिए वर चुनने की इच्छा से देवी सरस्वती पूरा हार श्रृंगार और सुंदर वस्त्र धारण करके श्री ब्रह्मा जी की सभा में पहुंची। अपनी सभा में सुंदरता की देवी का मनमोहक रूप सजाकर आई सरस्वती को देख ब्रह्मा जी ने अपना आसन छोड़ कर अपनी ही बेटी की सुंदरता पर मोहित होकर कामवासना वश उसे दोनों भुजाओं में जकड़ लिया। ब्रह्मा जी कामवासना वश (विकार वश ) होकर दुष्कर्म करने पर आमदा हुआ ही था कि इतने में भगवान शिव ने वहां प्रकट होकर ब्रह्मा जी के सिर पर थप्पड़ मारा और कहा कि क्या कर रहे हो ब्रह्मा? ब्रह्मा जी को अपनी गलती का एहसास हुआ। भगवान ब्रह्मा ने जल्द ही अपना वह शरीर त्याग दिया। तब उनकी मां देवी दुर्गा ब्रह्म-काल की पत्नी वहां प्रकट हुईं और अपनी शब्द शक्ति से ब्रह्मा जी को उसी उम्र का एक नया शरीर प्रदान किया। संत गरीब दास जी महाराज ने कहा है-

गरीब, बीजक की बातां कहैं, बीजक नाहीं हाथ।
पृथ्वी
डोबन उतरे, कह-कर मीठी बात।।
कहन
सुनन की करते बाता। कोई देखा अमृत खाता।।
ब्रह्मा
पुत्री देख कर, हो गए डामा डोल।।

क्या देवी सरस्वती, देवी सावित्री और देवी गायत्री एक ही स्त्री हैं?

हिन्दू धर्म में प्रचलित कथाओं के अनुसार देवी सरस्वती, देवी गायत्री और देवी सावित्री को एक ही माना जाता है। यहाँ तक गलत मान्यता है कि देवी सरस्वती, भगवान ब्रह्मा की पत्नी हैं। लेकिन सच्चाई तो यह है कि तीनों देवियाँ अलग-अलग हैं। देवी सरस्वती, भगवान ब्रह्मा की बेटी है और देवी सावित्री, श्री ब्रह्मा जी की पत्नी हैं और देवी गायत्री को माता दुर्गा ने ब्रह्मा जी को वापिस बुलवाने के लिए अपनी शब्द शक्ति से उत्पन्न किया था।

ब्रह्मा जी और देवी गायत्री की कथा क्या है?

पवित्र कबीर सागर के अध्याय "अनुराग सागर" पृष्ठ 30 (154) - 37 (161) में प्रमाण मिलता है कि एक बार श्री ब्रह्मा जी हठ करके अपने पिता की खोज के लिये चले गए और उन्होंने तपस्या (हठ योग) प्रारंभ कर दी। लेकिन ब्रह्मा जी को अपने पिता के दर्शन नहीं हुए। ब्रह्मा जी के सृष्टि रचना के कार्य को छोड़कर तपस्या करने चले जाने से काल ब्रह्म के लोक में सृष्टि रचना का कार्य बंद हो गया। काल ब्रह्म के निर्देश पर देवी दुर्गा ने श्री ब्रह्मा को वापिस बुलवाने के लिए अपनी शब्द शक्ति से गायत्री नाम की एक लड़की बनाई और उसे ब्रह्मा को वापस लाने का आदेश दिया। लेकिन गायत्री ने माता दुर्गा के सामने ब्रह्मा की झूठी गवाही देने में साथ दिया और बदले में ब्रह्मा के कहने पर उनके साथ शारीरिक संबंध बनाया और झूठी गवाही देने के लिए भी तैयार हो गई (गवाही ये थी कि ब्रह्मा को पिताजी काल ने दर्शन दिए हैं जबकि काल ने यह प्रतीज्ञा कर रखी है कि वह कभी किसी के सामने नहीं आएगा, ब्रह्मा ने गायत्री से कहा मैं इसी शर्त पर तेरे साथ चलूंगा जब तू मां के सामने मेरी झूठी गवाही देगी)। झूठी गवाही की सच्चाई सामने आने पर माता दुर्गा ने ब्रह्मा और गायत्री दोनों को श्राप दिया।

पवित्र कबीर सागर अध्याय "अनुराग सागर" के पृष्ठ 28 (152) में लिखा है कि माता दुर्गा ने श्री ब्रह्मा का विवाह माता सावित्री से, श्री विष्णु का विवाह माता लक्ष्मी से और श्री शिव का विवाह माता पार्वती से किया।

सरस्वती संगम तीर्थ तथा पुरूरवा तीर्थ की स्थापना कैसे हुई?

"श्री ब्रह्मा पुराण" के पृष्ठ 172-173 पर लिखा है कि एक दिन राजा पुरूरवा, श्री ब्रह्मा की सभा में गये। राजा पुरूरवा ने ब्रह्मा जी की पुत्री सरस्वती के सुंदर रूप को देखकर उनसे मिलने की इच्छा व्यक्त की। सरस्वती ने भी हाँ कर दी। सरस्वती नदी के तट पर सरस्वती और पुरूरवा ने अनेकों वर्षों तक पति पत्नी व्यवहार किया अर्थात रति क्रिया की। एक दिन ब्रह्मा जी ने दोनों को विलास करते हुए देख लिया। ब्रह्मा जी ने अपनी बेटी सरस्वती को श्राप दे दिया जिससे सरस्वती, नदी रूप में समा गई और जहाँ पुरूरवा और सरस्वती ने संभोग किया वह पवित्र तीर्थ सरस्वती संगम तीर्थ के रूप में विख्यात हुआ और जहां पुरूरवा ने सरस्वती की व्याकुलता में भगवान शिव की भक्ति की, वह स्थान पुरूरवा तीर्थ के रूप में विख्यात हुआ।

क्या सरस्वती देवी वास्तव में विद्या और ज्ञान दाता हैं?

लोक प्रचलित मान्यता है कि देवी सरस्वती ज्ञान और विद्या की दाता हैं। जबकि वेद, गीता और शास्त्रों के अनुसार विद्या, ज्ञान ,सदबुद्धि और सर्व प्रकार के सुखों के प्रदाता केवल और केवल पूर्ण परमेश्वर कबीर साहेब जी हैं। उनकी भक्ति करने से ही सब प्रकार के सुख , विद्या और ज्ञान भी प्राप्त होता है।

क्या माता सरस्वती की पूजा करना शास्त्रोचित है?

श्रीमद्भागवत गीता अध्याय 16 श्लोक 23-24 के अनुसार यदि कोई साधक भक्ति , पूजा शास्त्र विरुद्ध अर्थात वेदों (ऋग्वेद, यजुर्वेद, सामवेद, अथर्ववेद और सूक्ष्म वेद), गीता और धार्मिक ग्रथों को तत्वदर्शी संत से समझे बिना और इनके विपरीत करता है तो यह शास्त्र विरुद्ध साधना और मनमाना आचरण होता है। ऐसी स्थिति में साधक को न सुख प्राप्त होता है, न सिद्धि प्राप्त होती है, न परम गति अर्थात मोक्ष प्राप्त होता है अर्थात् ऐसी साधना करना व्यर्थ है। श्रीमद्भागवत गीता, पांचों वेदों  और ग्रंथों में माता सरस्वती की पूजा करने का कोई प्रमाण नहीं मिलता, जिससे सरस्वती जी की पूजा करना शास्त्र विरुद्ध साधना है।  

क्या माता सरस्वती अमर हैं?

संक्षिप्त श्रीमद् देवी भागवत पुराण, तीसरा स्कन्ध पृष्ठ 123 पर, श्री विष्णु जी, अपनी माता दुर्गा की स्तुति करते हुए कहते हैं मैं (विष्णु), ब्रह्मा और शंकर हम सभी आपकी कृपा से विद्यमान हैं। हमारा आविर्भाव (जन्म) और तिरोभाव (मृत्यु) हुआ करता है अर्थात हम अविनाशी नहीं हैं। जब सरस्वती जी के पिता श्री ब्रह्मा जी (रजोगुण, उत्पत्ति/सृष्टि कर्ता), विष्णु ( सतोगुण , पालन कर्ता) और शिव (तमोगुण, संहार कर्ता) ही अमर नहीं हैं तो उनकी पुत्री अमर कैसे हो सकती है। श्रीमद्भागवत गीता, अध्याय 8 श्लोक 16 में लिखा है कि ब्रह्मलोक तक सब लोक पुनरावृत्ति अर्थात जन्म मरण के चक्र में आते हैं।

चित्तशुद्ध तीर्थ क्या है?

संक्षिप्त श्रीमद देवीभागवत पुराण, छठा स्कन्ध अध्याय 10,पृष्ठ - 417 में व्यास जी, जनमेजय राजा को कहते हैं कि यह निश्चय है कि तीर्थ देह सम्बन्धी मैल को साफ कर देते हैं, किन्तु मन के मैल को धोने की शक्ति तीर्थों में नहीं है। चितशुद्ध तीर्थ गंगा आदि तीर्थों से भी अधिक पवित्र माना जाता है। यदि भाग्यवश चितशुद्ध तीर्थ सुलभ हो जाए अर्थात् तत्वदर्शी संतों का सत्संग रूपी तीर्थ प्राप्त हो जाए तो मानसिक मैल के धुल जाने में कोई संदेह नहीं। परन्तु राजन्! इस चितशुद्ध तीर्थ को प्राप्त करने के लिए ज्ञानी पुरूषों अर्थात् तत्वदर्शी सन्तों के सत्संग की विशेष आवश्यकता होती है। अकेले वेद, शास्त्र, व्रत, तप, यज्ञ और दान से चितशुद्ध होना बहुत कठिन है।

एकमात्र पूजनीय भगवान कौन है?

श्रीमद्भागवत गीता अध्याय 15 श्लोक 4, अध्याय 18 श्लोक 64, अध्याय 15 श्लोक 17 में गीता ज्ञान दाता ने कहा है उत्तम भगवान तो उपरोक्त दोनों प्रभुओं क्षर पुरूष तथा अक्षर पुरुष से अन्य ही है जो तीनों लोकों में प्रवेश करके सबका धारण पोषण करता है एवं अविनाशी परमेश्वर परमात्मा इस प्रकार कहा गया है उसी की मैं शरण में हूँ और वही मेरा पूज्य देव है। जिसे गीता अध्याय 8 श्लोक 3 में परम अक्षर ब्रह्म कहा गया है। जिसे वेदों में कविर्देव (कबीर साहेब), कुरान में अल्लाह कबीर के नाम से जाना जाता है। जिन्हें आदरणीय संत गरीबदास जी ने बन्दीछोड़ कबीर कहा है।

अनन्त कोटि ब्रह्मांड का, एक रति नहीं भार।
सतगुरु
पुरुष कबीर हैं, कुल के सृजन हार।।
हरदम
खोज हनोज हाजर, त्रिवैणी के तीर हैं।
दास
गरीब तबीब सतगुरु, बन्दी छोड़ कबीर हैं।।
हम
सुल्तानी नानक तारे, दादू कूं उपदेश दिया।
जात
जुलाहा भेद नहीं पाया, काशी माहे कबीर हुआ।।

क्या परमात्मा कबीर जी दयालु हैं?

पवित्र यजुर्वेद अध्याय 29 मंत्र 25:-

समिद्धोऽअद्य मनुषो दुरोणे देवो देवान्यजसि जातवेदः।
वह मित्रमहश्चिकित्वान्त्वं दूतः कविरसि प्रचेताः।।25।।

समिद्धः-अद्य-मनुषः-दुरोणे-देवः-देवान्-यज्-असि- जात-वेदः-- -वह-मित्रमहः-चिकित्वान्-त्वम्-दूतः- कविर्-असि-प्रचेताः।

अनुवाद - (अद्य) आज अर्थात् वर्तमान में (दुरोणे) शरीर रूप महल में दुराचार पूर्वक (मनुषः) झूठी पूजा में लीन मननशील व्यक्तियों को (समिद्धः) लगाई हुई आग अर्थात् शास्त्र विधि रहित वर्तमान पूजा जो हानिकारक होती है, अग्नि जला कर भस्म कर देती है ऐसे साधक का जीवन शास्त्रविरूद्ध साधना नष्ट कर देती है। उसके स्थान पर (देवान्) देवताओं के (देवः) देवता (जातवेदः) पूर्ण परमात्मा सतपुरुष की वास्तविक (यज्) पूजा (असि) है। (आ) दयालु , (मित्रमहः) जीव का वास्तविक साथी पूर्ण परमात्मा के (चिकित्वान्) स्वस्थ ज्ञान अर्थात् यथार्थ भक्ति को (दूतः) संदेशवाहक रूप में (वह) लेकर आने वाला (च) तथा (प्रचेताः) बोध कराने वाला (त्वम्) आप (कविर्देव अर्थात् कबीर परमेश्वर) कबीर (असि) है।

भावार्थ:- जिस समय भक्त समाज को शास्त्रविधि त्यागकर मनमाना आचरण (पूजा) कराया जा रहा होता है उस समय कविर्देव (कबीर परमेश्वर) तत्व ज्ञान को प्रकट करते हैं।

आध्यात्मिक ज्ञान की सम्पूर्ण जानकारी कहां से प्राप्त करें?

आध्यात्मिक ज्ञान की सम्पूर्ण जानकारी के लिए प्रतिदिन देखिये Sant Rampal Ji Maharaj यूट्यूब चैनल और अपने मोबाइल के प्लेस्टोर से Sant Rampal Ji Maharaj App डाउनलोड करें।

FAQ :

1. देवी सरस्वती कौन हैं?

देवी सरस्वती ब्रह्मा जी और देवी सावित्री की बेटी हैं। उन्हें अज्ञानतावश विद्या की देवी माना जाता है जबकि ज्ञान, बुद्धि, विद्या व अन्य सुख सुविधाएं सब कबीर साहेब जी से प्राप्त होती हैं।

2. देवी सरस्वती के माता पिता कौन हैं?

देवी सरस्वती के माता पिता देवी सावित्री और ब्रह्मा जी है।

3. क्या देवी गायत्री, देवी सरस्वती, देवी सावित्री एक ही स्त्री/देवी हैं?

नहीं। देवी सरस्वती ब्रह्मा जी और देवी सावित्री की बेटी हैं। जबकि देवी गायत्री को दुर्गा मां ने ब्रह्मा जी को वापस बुलाने के लिए उत्पन्न किया था जब वे अपने पिता काल ब्रह्म के दर्शन हेतु तपस्या करने चले गए थे।

4. बसंत पंचमी का त्योहार क्यों मनाते हैं?

बसंती पंचमी सरस्वती देवी की पूजा से जुड़ा त्योहार माना जाता है। इसे मुख्यतः शिक्षण और सरकारी संस्थानों में मनाया जाता है।

5. श्री ब्रह्मा और देवी सरस्वती के बीच क्या संबंध है?

ब्रह्मा जी देवी सरस्वती के पिता हैं पति नहीं। लेकिन ब्रह्मा जी ने कामवश देवी सरस्वती का आलिंगन कर लिया था इसलिए कुछ लोग उन्हें पति पत्नी बताते हैं जो कि गलत है।

6. दयालु परमात्मा कौन है?

दयालु परमात्मा कबीर साहेब जी हैं। वास्तविकता में कबीर जी ही सतज्ञान और विद्या प्रदान करने वाले एकमात्र परमात्मा हैं।