ॐ नमः शिवाय पंचाक्षरी मंत्र नहीं है - श्री शिव पुराण < Jagat Guru Rampal Ji

Jagat Guru Rampal Ji Maharaj

English || हिन्दी

ॐ नमः शिवाय पंचाक्षरी मंत्र नहीं है - श्री शिव पुराण

ॐ नमः शिवाय पंचाक्षरी मंत्र नहीं है - श्री शिव पुराण

एक बार ब्रह्मा तथा विष्णु की किसी बात पर लड़ाई हो गई। (विवरण यहाँ पर) तब उनके बीच में एक तेजोमय लिंग प्रकट हो गया तथा ओ3म्-ओ3म् का नाद प्रकट हुआ तथा उस लिंग पर अ-उ-म तीनों अक्षर भी लिखे थे। फिर रूद्र रूप धारण करके सदाशिव पाँच मुख वाले मानव रूप में प्रकट हुए, उनके साथ शिवा (दुर्गा) भी थी।

देखिये विवरण इस विडियो में।