श्रीमद देवी भगवद पुराण - कलयुग के ब्राह्मण प्राचीन युगों के राक्षसों के समान 

श्रीमद देवी भगवद पुराण, पृष्ठ 414, स्कन्द 6, गीता प्रैस गोरखपुर 

राजन! उन प्राचीन युगों में जो राक्षस समझे जाते थे, वे कलि में ब्राह्मण माने जाते हैं, क्योंकि अब के ब्राह्मण प्राय: पाखंड करने में तत्पर रहते हैं। दूसरों को ठगना, झूठ बोलना और वैदिक धर्म-कर्मों से अलग रहना --- कलियुगी ब्राह्मणों का स्वाभाविक गुण बन गया है।