16. आदरणीय गरीबदास साहेब जी की अमृतवाणी में सृष्टी रचना का प्रमाण < Jagat Guru Rampal Ji

Jagat Guru Rampal Ji Maharaj

English || हिन्दी

16. आदरणीय गरीबदास साहेब जी की अमृतवाणी में सृष्टी रचना का प्रमाण

आदि रमैणी (सद् ग्रन्थ पृष्ठ नं. 690 से 692 तक)

आदि रमैंणी अदली सारा। जा दिन होते धुंधुंकारा।।1।।

सतपुरुष कीन्हा प्रकाशा। हम होते तखत कबीर खवासा ।।2।।

मन मोहिनी सिरजी माया। सतपुरुष एक ख्याल बनाया।।3।।

धर्मराय सिरजे दरबानी। चैसठ जुगतप सेवा ठांनी।।4।।

पुरुष पृथिवी जाकूं दीन्ही। राज करो देवा आधीनी।।5।।

ब्रह्मण्ड इकीस राज तुम्ह दीन्हा। मन की इच्छा सब जुग लीन्हा।।6।।

माया मूल रूप एक छाजा। मोहि लिये जिनहूँ धर्मराजा।।7।।

धर्म का मन चंचल चित धार्या। मन माया का रूप बिचारा।।8।।

चंचल चेरी चपल चिरागा। या के परसे सरबस जागा।।9।।

धर्मराय कीया मन का भागी। विषय वासना संग से जागी।।10।।

आदि पुरुष अदली अनरागी। धर्मराय दिया दिल सें त्यागी।।11।।

पुरुष लोक सें दीया ढहाही। अगम दीप चलि आये भाई।।12।।

सहज दास जिस दीप रहंता। कारण कौंन कौंन कुल पंथा।।13।।

धर्मराय बोले दरबानी। सुनो सहज दास ब्रह्मज्ञानी।।14।।

चैसठ जुग हम सेवा कीन्ही। पुरुष पृथिवी हम कूं दीन्ही।।15।।

चंचल रूप भया मन बौरा। मनमोहिनी ठगिया भौंरा।।16।।

सतपुरुष के ना मन भाये। पुरुष लोक से हम चलि आये।।17।।

अगर दीप सुनत बड़भागी। सहज दास मेटो मन पागी।।18।।

बोले सहजदास दिल दानी। हम तो चाकर सत सहदानी।।19।।

सतपुरुष सें अरज गुजारूं। जब तुम्हारा बिवाण उतारूं।।20।।

सहज दास को कीया पीयाना। सत्यलोक लीया प्रवाना।।21।।

सतपुरुष साहिब सरबंगी। अविगत अदली अचल अभंगी।।22।।

धर्मराय तुम्हरा दरबानी। अगर दीप चलि गये प्रानी।।23।।

कौंन हुकम करी अरज अवाजा। कहां पठावौ उस धर्मराजा।।24।।

भई अवाज अदली एक साचा। विषय लोक जा तीन्यूं बाचा।।25।।

सहज विमाँन चले अधिकाई। छिन में अगर दीप चलि आई।।26।।

हमतो अरज करी अनरागी। तुम्ह विषय लोक जावो बड़भागी।।27।।

धर्मराय के चले विमाना। मानसरोवर आये प्राना।।28।

मानसरोवर रहन न पाये। दरै कबीरा थांना लाये।।29।।

बंकनाल की विषमी बाटी। तहां कबीरा रोकी घाटी।।30।।

इन पाँचों मिलि जगत बंधाना। लख चैरासी जीव संताना।।31।।

ब्रह्मा विष्णु महेश्वर माया। धर्मराय का राज पठाया।।32।।

यौह खोखा पुर झूठी बाजी। भिसति बैकुण्ठ दगासी साजी।।33।।

कृतिम जीव भुलांनें भाई। निज घर की तो खबरि न पाई।।34।।

सवा लाख उपजें नित हंसा। एक लाख विनशें नित अंसा।।35।।

उपति खपति प्रलय फेरी। हर्ष शोक जौंरा जम जेरी।।36।।

पाँचों तत्त्व हैं प्रलय माँही। सत्त्वगुण रजगुण तमगुण झांई।।37।।

आठों अंग मिली है माया। पिण्ड ब्रह्मण्ड सकल भरमाया।।38।।

या में सुरति शब्द की डोरी। पिण्ड ब्रह्मण्ड लगी है खोरी।।39।।

श्वासा पारस मन गह राखो। खोल्हि कपाट अमीरस चाखो।।40।।

सुनाऊं हंस शब्द सुन दासा। अगम दीप है अग है बासा।।41।।

भवसागर जम दण्ड जमाना। धर्मराय का है तलबांना।।42।।

पाँचों ऊपर पद की नगरी। बाट बिहंगम बंकी डगरी।।43।।

हमरा धर्मराय सों दावा। भवसागर में जीव भरमावा।।44।।

हम तो कहैं अगम की बानी। जहाँ अविगत अदली आप बिनानी।।45।।

बंदी छोड़ हमारा नामं। अजर अमर है अस्थीर ठामं।।46।।

जुगन जुगन हम कहते आये। जम जौंरा सें हंस छुटाये।।47।।

जो कोई मानें शब्द हमारा। भवसागर नहीं भरमें धारा।।48।।

या में सुरति शब्द का लेखा। तन अंदर मन कहो कीन्ही देखा।।49।।

दास गरीब अगम की बानी। खोजा हंसा शब्द सहदानी।।50।।

उपरोक्त अमृतवाणी का भावार्थ है कि आदरणीय गरीबदास साहेब जी कह रहे हैं कि यहाँ पहले केवल अंधकार था तथा पूर्ण परमात्मा कबीर साहेब जी सत्यलोक में तख्त (सिंहासन) पर विराजमान थे। हम वहाँ चाकर थे। परमात्मा ने ज्योति निरंजन को उत्पन्न किया। फिर उसके तप के प्रतिफल में इक्कीस ब्रह्मण्ड प्रदान किए। फिर माया (प्रकृति) की उत्पत्ति की। युवा दुर्गा के रूप पर मोहित होकर ज्योति निरंजन (ब्रह्म) ने दुर्गा (प्रकृति) से बलात्कार करने की चेष्टा की। ब्रह्म को उसकी सजा मिली। उसे सत्यलोक से निकाल दिया तथा शाप लगा कि एक लाख मानव शरीर धारी प्राणियों का प्रतिदिन आहार करेगा, सवा लाख उत्पन्न करेगा। यहाँ सर्व प्राणी जन्म-मृत्यु का कष्ट उठा रहे हैं। यदि कोई पूर्ण परमात्मा का वास्तविक शब्द (सच्चानाम जाप मंत्र) हमारे से प्राप्त करेगा, उसको काल की बंद से छुड़वा देंगे। हमारा बन्दी छोड़ नाम है। आदरणीय गरीबदास जी अपने गुरु व प्रभु कबीर परमात्मा के आधार पर कह रहे हैं कि सच्चे मंत्र अर्थात् सत्यनाम व सारशब्द की प्राप्ति कर लो, पूर्ण मोक्ष हो जायेगा। नहीं तो नकली नाम दाता संतों व महन्तों की मीठी-मीठी बातों में फंस कर शास्त्र विधि रहित साधना करके काल जाल में रह जाओगे। फिर कष्ट पर कष्ट उठाओगे।

।।गरीबदास जी महाराज की वाणी।।

(सत ग्रन्थ साहिब पृष्ठ नं. 690 से सहाभार)

माया आदि निरंजन भाई, अपने जाऐ आपै खाई।

ब्रह्मा विष्णु महेश्वर चेला, ऊँ सोहं का है खेला।।

सिखर सुन्न में धर्म अन्यायी, जिन शक्ति डायन महल पठाई।।

लाख ग्रास नित उठ दूती, माया आदि तख्त की कुती।।

सवा लाख घडि़ये नित भांडे, हंसा उतपति परलय डांडे।

ये तीनों चेला बटपारी, सिरजे पुरुषा सिरजी नारी।।

खोखापुर में जीव भुलाये, स्वपना बहिस्त वैकंुठ बनाये।

यो हरहट का कुआ लोई, या गल बंध्या है सब कोई।।

कीड़ी कुजंर और अवतारा, हरहट डोरी बंधे कई बारा।

अरब अलील इन्द्र हैं भाई, हरहट डोरी बंधे सब आई।।

शेष महेश गणेश्वर ताहिं, हरहट डोरी बंधे सब आहिं।

शुक्रादिक ब्रह्मादिक देवा, हरहट डोरी बंधे सब खेवा।।

कोटिक कर्ता फिरता देख्या, हरहट डोरी कहूँ सुन लेखा।

चतुर्भुजी भगवान कहावैं, हरहट डोरी बंधे सब आवैं।।

यो है खोखापुर का कुआ, या में पड़ा सो निश्चय मुवा।

ज्योति निरंजन (कालबली) के वश होकर के ये तीनों देवता (रजगुण-ब्रह्मा, सतगुण-विष्णु, तमगुण-शिव) अपनी महिमा दिखाकर जीवों को स्वर्ग नरक तथा भवसागर में (लख चैरासी योनियों में) भटकाते रहते हैं। ज्योति निरंजन अपनी माया से नागिनी की तरह जीवों को पैदा करते हैं और फिर मार देते हैं। जिस प्रकार नागिनी अपनी दुम से अण्डों के चारों ओर कुण्डली बनाती है फिर उन अण्डों पर अपना फन मारती है। जिससे अण्डा फूट जाता है। उसमें से बच्चा निकल जाता है। उसको नागिनी खा जाती है। फन मारते समय कई अण्डे फूट जाते हैं क्योंकि नागिनी के काफी अण्डे होते हैं। जो अण्डे फूटते हैं उनमें से बच्चे निकलते हैं यदि कोई बच्चा कुण्डली (सर्पनी की दुम का घेरा) से बाहर निकल जाता है तो वह बच्चा बच जाता है नहीं तो कुण्डली में वह (नागिनी) छोड़ती नहीं। जितने बच्चे उस कुण्डली के अन्दर होते हैं उन सबको खा जाती है।

माया काली नागिनी, अपने जाये खात। कुण्डली में छोड़ै नहीं, सौ बातों की बात।।

इसी प्रकार यह कालबली का जाल है। निरंजन तक की भक्ति पूरे संत से नाम लेकर करेगें तो भी इस निरंजन की कुण्डली (इक्कीस ब्रह्मण्डों) से बाहर नहीं निकल सकते। स्वयं ब्रह्मा, विष्णु, महेश, आदि माया शेराँवाली भी निरंजन की कुण्डली में है। ये बेचारे अवतार धार कर आते हैं और जन्म-मृत्यु का चक्कर काटते रहते हैं। इसलिए विचार करें सोहं जाप जो कि ध्रुव व प्रहलाद व शुकदेव ऋषि ने जपा, वह भी पार नहीं हुए। क्योंकि श्री विष्णु पुराण के प्रथम अंश के अध्याय 12 के श्लोक 93 में पृष्ठ 51 पर लिखा है कि ध्रुव केवल एक कल्प अर्थात् एक हजार चतुर्युग तक ही मुक्त है। इसलिए काल लोक में ही रहे तथा ‘ऊँ नमः भगवते वासुदेवाय’ मन्त्र जाप करने वाले भक्त भी कृष्ण तक की भक्ति कर रहे हैं, वे भी चैरासी लाख योनियों के चक्कर काटने से नहीं बच सकते। यह परम पूज्य कबीर साहिब जी व आदरणीय गरीबदास साहेब जी महाराज की वाणी प्रत्यक्ष प्रमाण देती हैं।

अनन्त कोटि अवतार हैं, माया के गोविन्द। कर्ता हो हो अवतरे, बहुर पड़े जग फंध।।

सतपुरुष कबीर साहिब जी की भक्ति से ही जीव मुक्त हो सकता है।

जब तक जीव सतलोक में वापिस नहीं चला जाएगा तब तक काल लोक में इसी तरह कर्म करेगा और की हुई नाम व दान धर्म की कमाई स्वर्ग रूपी होटलों में समाप्त करके वापिस कर्म आधार से चैरासी लाख प्रकार के प्राणियों के शरीर में कष्ट उठाने वाले काल लोक में चक्कर काटता रहेगा। माया (दुर्गा) से उत्पन्न हो कर करोड़ों गोबिन्द(ब्रह्मा-विष्णु-शिव) मर चुके हैं। भगवान का अवतार बन कर आये थे। फिर कर्म बन्धन में बन्ध कर कर्मों को भोग कर चैरासी लाख योनियों में चले गए। जैसे भगवान विष्णु जी को देवर्षि नारद का शाप लगा। वे श्री रामचन्द्र रूप में अयोध्या में आए। फिर श्री राम जी रूप में बाली का वध किया था। उस कर्म का दण्ड भोगने के लिए श्री कृष्ण जी का जन्म हुआ। फिर बाली वाली आत्मा शिकारी बना तथा अपना प्रतिशोध लिया। श्री कृष्ण जी के पैर में विषाक्त तीर मार कर वध किया। महाराज गरीबदास जी अपनी वाणी में कहते हैं:

ब्रह्मा विष्णु महेश्वर माया, और धर्मराय कहिये।

इन पाँचों मिल परपंच बनाया, वाणी हमरी लहिये।।

इन पाँचों मिल जीव अटकाये, जुगन-जुगन हम आन छुटाये।

बन्दी छोड़ हमारा नामं, अजर अमर है अस्थिर ठामं।।

पीर पैगम्बर कुतुब औलिया, सुर नर मुनिजन ज्ञानी।

येता को तो राह न पाया, जम के बंधे प्राणी।।

धर्मराय की धूमा-धामी, जम पर जंग चलाऊँ।

जोरा को तो जान न दूगां, बांध अदल घर ल्याऊँ।।

काल अकाल दोहूँ को मोसूं, महाकाल सिर मूंडू।

मैं तो तख्त हजूरी हुकमी, चोर खोज कूं ढूंढू।।

मूला माया मग में बैठी, हंसा चुन-चुन खाई।

ज्योति स्वरूपी भया निरंजन, मैं ही कर्ता भाई।।

संहस अठासी दीप मुनीश्वर, बंधे मुला डोरी।

ऐत्यां में जम का तलबाना, चलिए पुरुष कीशोरी।।

मूला का तो माथा दागूं, सतकी मोहर करूंगा।

पुरुष दीप कूं हंस चलाऊँ, दरा न रोकन दूंगा।।

हम तो बन्दी छोड़ कहावां, धर्मराय है चकवै।

सतलोक की सकल सुनावें, वाणी हमरी अखवै।।

नौ लख पटट्न ऊपर खेलूं, साहदरे कूं रोकूं।

द्वादस कोटि कटक सब काटूं, हंस पठाऊँ मोखूं।।

चैदह भुवन गमन है मेरा, जल थल में सरबंगी।

खालिक खलक खलक में खालिक, अविगत अचल अभंगी।।

अगर अलील चक्र है मेरा, जित से हम चल आए।

पाँचों पर प्रवाना मेरा, बंधि छुटावन धाये।।

जहाँ ओंकार निरंजन नाहीं, ब्रह्मा विष्णु वेद नहीं जाहीं।

जहाँ करता नहीं जान भगवाना, काया माया पिण्ड न प्राणा।।

पाँच तत्व तीनों गुण नाहीं, जोरा काल दीप नहीं जाहीं।

अमर करूं सतलोक पठाँऊ, तातैं बन्दी छोड़ कहाऊँ।।

कबीर परमेश्वर (कविर्देव) की महिमा बताते हुए आदरणीय गरीबदास साहेब जी कह रहे हैं कि हमारे प्रभु कविर् (कविर्देव) बन्दी छोड़ हैं। बन्दी छोड़ का भावार्थ है काल की कारागार से छुटवाने वाला, काल ब्रह्म के इक्कीस ब्रह्मण्डों में सर्व प्राणी पापों के कारण काल के बंदी हैं। पूर्ण परमात्मा (कविर्देव) कबीर साहेब पाप का विनाश कर देते हैं। पापों का विनाश न ब्रह्म, न परब्रह्म, न ही ब्रह्मा, विष्णु, शिव जी कर सकते हैं। केवल जैसा कर्म है, उसका वैसा ही फल दे देते हैं। इसीलिए यजुर्वेद अध्याय 5 के मन्त्र 32 में लिखा है ‘कविरंघारिरसि‘ कविर्देव (कबीर परमेश्वर) पापों का शत्रु है, ‘बम्भारिरसि‘ बन्धनों का शत्रु अर्थात् बन्दी छोड़ है।

इन पाँचों (ब्रह्मा-विष्णु-शिव-माया और धर्मराय) से ऊपर सतपुरुष परमात्मा (कविर्देव) है। जो सतलोक का मालिक है। शेष सर्व परब्रह्म-ब्रह्म तथा ब्रह्मा-विष्णु-शिव जी व आदि माया नाशवान परमात्मा हैं। महाप्रलय में ये सब तथा इनके लोक समाप्त हो जाएंगे। आम जीव से कई हजार गुणा ज्यादा लम्बी इनकी उम्र है। परन्तु जो समय निर्धारित है वह एक दिन पूरा अवश्य होगा। आदरणीय गरीबदास जी महाराज कहते हैं:

शिव ब्रह्मा का राज, इन्द्र गिनती कहां। चार मुक्ति वैकुंण्ठ समझ, येता लह्या।।

संख जुगन की जुनी, उम्र बड़ धाारिया। जा जननी कुर्बान, सु कागज पारिया।।

येती उम्र बुलंद मरैगा अंत रे। सतगुरु लगे न कान, न भैंटे संत रे।।

चाहे संख युग की लम्बी उम्र भी क्यों न हो वह एक दिन समाप्त जरूर होगी। यदि सतपुरुष परमात्मा (कविर्देव) कबीर साहेब के नुमाँयदे पूर्ण संत(गुरु) जो तीन नाम का मंत्र (जिसमें एक ओ3म  तत्  सत् सांकेतिक हैं) देता है तथा उसे पूर्ण संत द्वारा नाम दान करने का आदेश है, उससे उपदेश लेकर नाम की कमाई करेंगे तो हम सतलोक के अधिकारी हंस हो सकते हैं। सत्य साधना बिना बहुत लम्बी उम्र कोई काम नहीं आएगी क्योंकि निरंजन लोक में दुःख ही दुःख है।

कबीर, जीवना तो थोड़ा ही भला, जै सत सुमरन होय। लाख वर्ष का जीवना, लेखै धरै ना कोय।।

कबीर साहिब अपनी (पूर्णब्रह्म की) जानकारी स्वयं बताते हैं कि इन परमात्माओं से ऊपर असंख्य भुजा का परमात्मा सतपुरुष है जो सत्यलोक (सच्च खण्ड, सतधाम) में रहता है तथा उसके अन्तर्गत सर्वलोक ख्ब्रह्म (काल) के 21 ब्रह्मण्ड व ब्रह्मा, विष्णु, शिव शक्ति के लोक तथा परब्रह्म के सात संख ब्रह्मण्ड व अन्य सर्व ब्रह्मण्ड, आते हैं और वहाँ पर सत्यनाम-सारनाम के जाप द्वारा जाया जाएगा जो पूरे गुरु से प्राप्त होता है। सच्चखण्ड (सतलोक) में जो आत्मा चली जाती है उसका पुनर्जन्म नहीं होता। सतपुरुष (पूर्णब्रह्म) कबीर साहेब (कविर्देव) ही अन्य लोकों में स्वयं ही भिन्न-भिन्न नामों से विराजमान हैं। जैसे अलख लोक में अलख पुरुष, अगम लोक में अगम पुरुष तथा अकह लोक में अनामी पुरुष रूप में विराजमान हैं। ये तो उपमात्मक नाम हैं, परन्तु वास्तविक नाम उस पूर्ण पुरुष का कविर्देव (भाषा भिन्न होकर कबीर साहेब) है।